'मुझे कुछ नहीं चाहिए, चाहिए तो केवल इज़्ज़त’